सीरियाई लोकतांत्रिक बल युद्ध बंदियों के खिलाफ सख्ती

नई दिल्ली : अमेरिका ने अपने सहयोगी देशों से अनुरोध किया है कि वह सीरिया में अमेरिकी समर्थन वाले सीरियाई लोकतांत्रिक बल द्वारा बड़ी संख्या में पकड़े जा रहे युद्ध बंदियों से निपटने में मदद करें.

सीरियाई लोकतांत्रिक बल युद्ध बंदियों के खिलाफ सख्ती करें.
संयुक्त राज्य अमेरिका ने चाहता है कि उनके सहयोगी देश सीरिया में अमेरिकी समर्थन वाले सीरियाई लोकतांत्रिक बल द्वारा बड़ी संख्या में पकड़े जा रहे सभी युद्ध बंदियों के खिलाफ सख्ती करें और सभी बंदियों के खिलाफ उनके देश में मुकदमा चलाया जाना चाहिए. जिससे विदेशी लड़ाकों को सबक मिलेगा और रक्षा मंत्री जिम मैटिस इस सप्ताह रोम में होने वाली बैठक में यह मुद्दा जरूर उठाएंगे.
गौरतलब है कि इराक और सीरिया में इस्लामिक स्टेट के आतंकवादियों के खिलाफ लड़ रहे देशों के गठबंधन की यहां बैठक होने वाली है. सीरियाई लोकतांत्रिक बल ने हाल ही में आईएस के हजारों सदस्यों को बंदी बनाया हुआ है, जिनमें सैकड़ों विदेशी लड़ाके हैं.

गुआन्तानामो बे की जेल में डालना सही विकल्प नहीं.
सीरियाई लोकतांत्रिक बल द्वारा मौजूदा स्थिति में आईएस के बीटल्स शाखा के दो ब्रिटिश सदस्यों को गिरफ्तार कर लिया गया था, गिरफ्तारी के बाद यह मुद्दा और भी महत्वपूर्ण बन गया था. बीटल्स शाखा बंधकों का गला काटने के लिए कुख्यात है. अमेरिकी अधिकारियों का कहना था कि इन दोनों को क्यूबा स्थित गुआन्तानामो बे की जेल में डालना कोई सही विकल्प नहीं है. वहीं ब्रिटेन के नेताओं का कहना था कि वह दोनों को अपने देश वापस नहीं लाना चाहते.

इजरायल का एक लड़ाकू विमान सीरियाई हवाई रक्षा प्रणाली के निशाने पर
इजरायल ने अपनी वायुसीमा में एक ईरानी ड्रोन के प्रवेश पर यह कार्रवाई की. गुतारेस ने कहा कि सीरिया और क्षेत्र में सभी संबंधित पक्षों को अंतरराष्ट्रीय कानूनों का पालन करना चाहिये. दुजारिक ने कहा, ‘‘उन्होंने सभी से बिना शर्त हिंसा रोकने और संयम बरतने की दिशा में तत्काल काम करने का आह्वान किया है.’’