पटवारी परीक्षा: 9 दिसंबर से, 18 दिन लगातार देंगे 55 हजार कैंडीडेट ऑनलाइन टेस्ट

ग्वालियर. पटवारी की 9235 पोस्ट के लिए 10 लाख से ज्यादा लोगों ने आवेदन किया है। इसका ऑनलाइन टेस्ट 9 दिसंबर से शुरू होगा। यह टेस्ट 29 दिसंबर तक लगातार 18 दिन चलेगा। केवल 17 और 25 दिसंबर को छुट्टी रहेगी। प्रोफेशनल एक्जामिनेशन बोर्ड (PEB) यह टेस्ट TCS के जरिए करा रहा है। टेस्ट में प्रतिदिन 55 हजार कैंडिडेट्स शामिल होंगे। फर्जीवाड़े की आशंका को देखते हुए हर कैंडिडेट्स की एक्जाम सेंटर पर 3 बार चेकिंग होगी। ऐसे होगी परीक्षा……

-कई सालों के बाद एमपी में पटवारी पोस्ट के लिए वेकेंसी निकलीं और व्यापमं ने इसके लिए 9235 पद निकाले। इन पदों के लिए व्यापमं के पास रिकॉर्ड संख्या में, करीब 10 लाख से ज्यादा आवेदन पहुंचे।
-इसके बाद अब PEB सभी कैंडिडेट्स का ऑनलाइन टेस्ट 9 दिसंबर से लेने जा रहा है। 16 जिलों में एक साथ यह ऑनलाइन टेस्ट 9 दिसंबर से शुरू होकर 29 दिसंबर तक होगा। केवल 17 और 25 दिसंबर की छुट्टी रहेगी।
तीन बार होगी चेकिंग
-चूंकि व्यापमं की परीक्षाओं में फर्जीवाड़े के मामलों का रिकॉर्ड बना हुआ है, जिसके कारण कड़ी सुरक्षा और उपायों से पटवारी परीक्षा का आयोजन किया जा रहा है। जिन कैंडिडेट्स को एक्जाम देना है, उन्हें परीक्षा के तीन दिन पहले सेंटर बताया जाएगा।
-परीक्षा की तैयारियों के लिए संबंधित जिले के अफसरों को वीडियो कॉन्फ्रेंसिग के जरिए निर्देश दिए गए हैं। सबसे ज्यादा जोर फर्जीवाड़ा रोकने पर ही दिया गया है।
-PEB अफसरों के मुताबिक टेस्ट देने वाले कैंडिडेट की परीक्षा केन्द्र पर 3 बार चेकिंग की जाएगी। केन्द्र में घुसते समय, परीक्षा देते समय केन्द्र के अंदर और परीक्षा खत्म होने पर चेकिंग की जाएगी।

नेटवर्क को लेकर डरे हैं अफसर
-पटवारी पद के लिए ऑनलाइन परीक्षा का जिम्मा TCS को सौंपा गया है। चूंकि इसमें बड़ी संख्या में उम्मीदवार शामिल हो रहे हैं, इसलिए परीक्षा से जुड़े अफसरों को नेटवर्क प्रॉब्लम को लेकर डर है।
-यदि नेटवर्क डाउन रहा तो परीक्षा समय पर पूरी होना मुश्किल है। ऐसे में उम्मीदवारों का गुस्सा सेंटर में देखने को मिल सकता है।
ये निर्देश जारी किएPEBने
-परीक्षा सुबह 9-11 व दोपहर 3 से शाम 5 बजे तक होगी।
-रिपोर्टिंग टाइम के 30 मिनट बाद आने पर प्रवेश नहीं मिलेगा।
-स्टाफ व कैंडीडेट मोबाइल, कैलकुलेटर व घड़ी लेकर नहीं जाएंगे।
-उम्मीदवार को मूल फोटो युक्त पहचान पत्र दिखाना होगा।
-ई-आधार तभी मान्य होगा जब वह यूआईडीएआई द्वारा सत्यापित होगा।
-एडमिट कार्ड के दोनों भागों का प्रिंट लेकर सेंटर पर जाना होगा।
-एडमिट कार्ड में कोई गलती होने पर अब उसमें सुधार संभव नहीं होगा।
-एक उम्मीदवार का चार बार बायोमैट्रिक सत्यापन सेंटर पर होगा।
-पिन नंबर जरूर याद रखें, यह उम्मीदवार को कम्प्यूटर में डालना होगा।
-एडमिट कार्ड दो जारी होंगे, पहले में नाम व जिला होगा, दूसरे में रोल नंबर व सेंटर।