भावांतर योजना में परिवहन हेतु वाहनो के पंजीयन के निर्देश

कलेक्टर श्री पीएल सोलंकी द्वारा कृषि, उद्यानिकी एवं एनआरएलएम के अधिकारियो के साथ बैठक में निर्देश दिये गये कि भावांतर योजना के तहत पंजीकृत किसानो की उपज मंडी में विक्रय हेतु लाने के लिए कस्टम हायर सेंटर के माध्यम से ट्रेक्टर ट्रालियो का पंजीयन किया जाये। योजना के तहत लद्यु कृषको को निशुल्क परिवहन की सुविधा उपलब्ध कराई जायेगी। उन्होने कहा कि बरगवा, डूडीखेडा, गोबर्धा, भुरवाडा, करियादेह, आवदा, बर्धाबुखारी आदि स्थानो पर वाहनो का पंजीयन किया जाना सुनिश्चित करें। इसके अलावा बडोदा, प्रेमसर एवं सोई क्षेत्र में वाहनो के पंजीयन कराये जाये। उन्होने कहा कि भावांतर योजना के तहत शेष रह गये किसानो के पंजीयन के लिए शासन द्वारा पुन पोर्टल खोला जाना संभावित है। अतः अधिकारी अधिक से अधिक किसानो का पंजीयन कराये। उन्होने निर्देश दिये कि भावांतर योजना के तहत मंडीवार नियुक्त किये गये नोडल अधिकारी प्रतिदिन मंडी भावो पर निगरानी रखेगे तथा इसकी जानकारी जिला प्रशासन को उपलब्ध कराई जाये।
कलेक्टर श्री सोलंकी द्वारा निर्देश दिये गये कि एनआरएलएम के सहयोगी बायफ संस्था द्वारा 523 फलबाडी लगाई गई है। इन सभी किसानो को अनुदान योजना के तहत ड्रिप एवं स्प्रिकंलर सिस्टम प्रदान किये जाये। आगामी 25 नवम्बर तक 150 किसानो को लाभान्वित करने का लक्ष्य निर्धारित करते हुए उन्होने कहा कि सिंचाई उदवहन समितियो के कृषको को सब्जी उत्पादन से जोडने हेतु एनआरएलएम द्वारा तकनीकि सहयोग प्रदान किया जाये। उन्होने स्लेक प्रोग्राम अंतर्गत चयनित श्योपुर एवं कराहल के सभी 50 ग्रामों मे 5-5 किसानो कें यहा बलराम तालाब निर्माण कराये जाये। इसके अतंर्गत कृषि विभाग द्वारा 1 लाख रूपये की अनुदान राशि प्रदाय की जाती है।