दो रनों से मिली जीत पर हुआ ऐसा विवाद कि बीसीसीआई ने दी दखल

सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी में गुरुवार को कर्नाटक और हैदराबाद के बीच खेला गया मैच विवादों में घिर गया है। इस मैच में कर्नाटक ने हैदराबाद को दो रनों से हरा दिया। विशाखापत्नम के डॉ.वाईएस राजशेखर रेड्डी एसीए-वीडीसीए स्टेडियम में अंपायरों की गलती के कारण कर्नाटक के स्कोर में दो रन जोड़े गए, जिसका खामियाजा हैदराबाद को भुगतना पड़ा। इससे नाराज खिलाड़ी भड़क गए। हैदराबाद के खिलाड़ियों का कहना था कि स्कोर में बाद में बदलाव करने से उनकी टीम हार गई।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक दूसरे ओवर की चौथी गेंद पर हैदराबाद के फील्डर मेहदी हसन का पांव बाउंड्री को छू गया था। अंपायर ने बल्लेबाज करुण नायर को 4 रन देने के बजाय 2 रन दिए। दोनों अंपायरों ने रिव्यू के लिए खेल को भी नहीं रोका। लेकिन हैदराबाद की पारी शुरू होने से पहले स्कोर में सुधार करके अंपायरों ने उसे 205/5 कर दिया।

हैदराबाद की पारी शुरू होने से पहले कर्नाटक के कप्तान विनय कुमार और हैदराबाद के कप्तान अंबाती रायडू की अंपायरों के साथ बहस हुई। मैच खत्म होने के बाद भी रायडू अंपायरों के सामने यह बात उठाते रहे। टीम के अन्य खिलाड़ी भी इस दौरान मैदान पर आ गए। इस वजह से केरल और आंध्र प्रदेश के बीच होने वाला अगला मैच वक्त पर शुरू नहीं हो पाया। रिपोर्ट के मुताबिक रायडू ने कहा कि वह दूसरा मैच रोकना नहीं चाहते थे। उन्होंने केवल सुपर ओवर कराने की मांग उठाई थी। रायडू ने आगे कहा, अंत में हम अंपायरों के पास सुपर ओवर मांगने पहुंचे। यही बहस का मुद्दा था। हम यह अनुरोध कर रहे थे कि मैच पूरा नहीं हुआ है, हमें अब भी सुपर ओवर खेलना है।

रिपोर्ट्स के मुताबिक कर्नाटक टीम के अधिकारी ने कहा कि खिलाड़ियों ने यह मुद्दा थर्ड अंपायर के सामने उठा, जिन्होंने मैदान में मौजूद अंपायर को इसके बारे में बताया। वहीं बीसीसीआई ने भी ट्वीट कर इस मामले की जांच करने की बात कही है। बीसीसीआई ने कहा, सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी 2018 में हैदराबाद और कर्नाटक के मैच के दौरान हुए विवाद पर बोर्ड ने संज्ञान लिया है। मैच रेफरी की रिपोर्ट आने के बाद आचार संहिता के तहत एक्शन लिया जाएगा।